Wednesday, 30 September 2015

अँजुली भर के बरसी बदरिया गगन से

लब  खामोश दिल की  ज़ुबाँ बनते आँसू
आये  न   पिया  आँखों   से  बहते  आँसू
अँजुली  भर के  बरसी  बदरिया गगन से
है    छलकते    नैना   नीर    भरते  आँसू

रेखा जोशी