Tuesday, 16 February 2016

जहाँ मुहब्बत के कदम का निशान पाया

तुम्हे  पा   कर  हमने   सारा  जहान पाया
हैं  मिल  गये  पँख  हमने  आसमान पाया
आँखें     मूँदे     चले     तेरे      पीछे   पीछे
जहाँ मुहब्बत के  कदम का निशान  पाया

रेखा जोशी