Wednesday, 24 February 2016

दो पाटों में जीवन


बना कर रख संतुलन
कहीं वन कहीं उपवन
कभी  धूप  कभी छाँव
दो   पाटों   में  जीवन

रेखा जोशी