Tuesday, 9 February 2016

आन बान औ शान तिरंगे का रखने को तैयार है

रख  हथेली  पर  प्राण  सिपाही मरने को तैयार है 
अपने देश की खातिर वह  मर मिटने को तैयार है 
अपने माँ बाप बीवी बच्चों से बहुत  दूर सीमा पर 
आन बान औ शान  तिरंगे का रखने को तैयार है 

रेखा जोशी