Friday, 5 February 2016

कहीं न पाया प्यार , है मची जगत में धूम

घूम लिये चाँद तारे ,घूम लिया संसार 
घूम ली दुनिया सारी ,कहीं न पाया प्यार 
कहीं न पाया प्यार ,  है मची जगत में धूम 
मिलता नही करार , खोजें जिसे घूम घूम 

रेखा जोशी