Wednesday, 3 February 2016

उपवन मे मँडराते फूलों के आस पास

मुस्कुराती  रही कलियाँ खिलते रहे फूल
गुनगुनाते   रहे  भँवरे  रास्ता  गये  भूल
उपवन मे  मँडराते  फूलों  के आस  पास
भूल  गये  पगले  फूलों  संग रहते  शूल

रेखा जोशी