Thursday, 18 February 2016

सिखायेंगे उन को सबक देश द्रोह जो कर रहे


कदम से कदम मिलाकर आगे वतन बढ़ायेंगे
ह्रदय  में हम सभी के प्रेम के सुमन खिलायेंगे 
सिखायेंगे  उन को सबक देश द्रोह जो कर रहे 
भाँति  भाँति के फूलों से यह उपवन सजायेंगे 

रेखा जोशी