Friday, 17 July 2015

वर्ण पिरामिड [सपना ]

है
बसे
सपने
पलकों में
छू लूँ आकाश
मन में विश्वास
होंगे पूरे  सपने
होगी पूरी अब आस

रेखा जोशी