Saturday, 25 July 2015

दगाबाज़ ने छोड़ दिया हमे मंझधार में

क्यों वादे पे तेरे हमने एतबार किया 
हमने तो इस दिल जिगर को तुम पे वार दिया
दगाबाज़ ने छोड़ दिया हमे मंझधार में 
सोचते है क्यों हमने तुमसे प्यार किया

रेखा जोशी