Thursday, 9 July 2015

समा गया है इस तरह से मेरी ज़िंदगी में वोह


देखती जब आईना इक  अक्स दिखाई देता है
मन  बाँवरा गाता करता  रक्स दिखाई देता है
समा गया है  इस तरह से मेरी ज़िंदगी में वोह
बंद पलकों में  वही इक शख्स  दिखाई देता है

रेखा जोशी