Tuesday, 21 July 2015

त्रिवेणी


बंधे है रिश्ते प्रेम नेह के कच्चे धागों से
अनमोल रिश्तों की दुनिया  है  जहाँ में

कराहता दिल जब टूटते स्नेहिल बंधन
.........................
प्रेम से बंधी कान्हा संग गोपियाँ
मधुर बंसी की धुन पर नाचती गोपियाँ

छोड़ गया निर्मोही गोकुल में उन्हें

रेखा जोशी