Thursday, 16 July 2015

आने से उसके सारे जहाँ का प्यार मिल गया

गीतिका 


आई  नन्ही परी  घर में  मुझे  संसार मिल गया 
ईश्वर  का  मुझे   खूबसूरत  उपहार  मिल  गया 
..... 
खुशियों ही खुशियों से अब भर उठा आँगन मेरा 
ज़िंदगी  जीने  का  मुझे यहाँ  आधार मिल गया 
...…
ठुमकती नाचती वह जब  घर अंगना में मेरे 
खुशियों का ज़िंदगी में मुझे अब अम्बार मिल गया 
……
लुभाती  है  मुझे  उसकी प्यारी  सी मुस्कुराहट 
फूलों से महकता हुआ मुझे गुलज़ार मिल गया 
…… 
उमड़ती है ममता जब खेलती गोद में मेरी 
आने से उसके सारे जहाँ का प्यार मिल गया 
…… 

रेखा जोशी