Sunday, 28 December 2014

ढूँढ़ लो तुम सुनहरे वो पंख

जो बीत गया  उसे भूल जा
पग चूमती नव उषाकिरण
ढूँढ़ लो तुम सुनहरे वो पंख
छू लो ऊँचे आसमां को तुम

  रेखा जोशी