Wednesday, 10 December 2014

फिसल जायेगा रेत का महल हाथ से

धरती और गगन कभी मिल नही सकते
फूल  पत्थरों  में  कभी खिल नही सकते
फिसल जायेगा  रेत  का  महल  हाथ से
ख्याली  पुलाव हकीकत बन नही सकते

रेखा जोशी