Wednesday, 10 June 2015

बगिया वीरान आज बिन तेरे अब साजन

फूलों  को  अंगना  में खिलने  की आस  है
गया  पतझड़  बसंत  के फलने की आस है
बगिया  वीरान आज बिन  तेरे अब साजन 
धैर्य  रख  मधुमास  में  मिलने की आस है

रेखा जोशी