Thursday, 25 June 2015

मिल कर साथ तराना गाना पड़ता है

नौका को  पार  नदी  जाना   पड़ता है
कश्ती को साहिल तक लाना पड़ता है

तेरी   खातिर  अब  ज़हर  पिया  हमने
दिल  में  दर्द  लिये  मुस्काना  पड़ता है

गर दिल को मेरे जब समझे ना वो
देखो प्यार वहाँ जतलाना पड़ता है

आओ जीवन में साथ चलें हम  दोनों
जीवन का यह सफर निभाना पड़ता है 
.... 
गाये गीत अकेले हमने दुनिया में 
मिल कर साथ तराना गाना  पड़ता है 

रेखा जोशी