Tuesday, 16 June 2015

छीनी सब खुशियाँ तुमने हमसे ज़िंदगी

निभा रहे हम  किसी  तरह तुम्हे ज़िंदगी
सिवा दर्द के कुछ न मिला तुमसे ज़िंदगी
कभी  तो  दो  पल  जीने दो  चैन  से  हमे
छीनी  सब  खुशियाँ तुमने हमसे ज़िंदगी

रेखा जोशी