Tuesday, 23 June 2015

बन सकते नहीं अगर आप हमारे अपने


सजन  अपने   से  निगाहें   चुराना मना है
किसी  गैर  से  भी  नज़रें  मिलाना मना है
बन  सकते  नहीं अगर आप  हमारे  अपने
दिल ऐ  नादाँ  कहीं  और  लगाना   मना है

रेखा जोशी