Saturday, 27 June 2015

ढूँढती गोपाला को गोपियाँ गोकुल में

न जाने  कहाँ  यशोदा का कान्हा  छुपा है
गोपियों का तो मनमोहन प्यारा सखा है
ढूँढती   गोपाला  को  गोपियाँ  गोकुल में
कान्हा  तो  सदा  राधा के मन में बसा है

रेखा जोशी