Monday, 12 October 2015

दोहे

आँचल लहराती हवा पड़े ठंडी फुहार |
उड़ती जाये चुनरिया बरखा की बौछार ||
....
सावन बरसा झूम के भीगा तन मन आज ।
पेड़ों पर झूले पड़े  बजे है मधुर साज़ ॥
....
रेखा जोशी