Thursday, 22 October 2015

मिले धोखे यहां करना न तुम प्यार

किया था प्यार हमने आज स्वीकार
हुई   है   ज़िंदगी   में  प्यार  की  हार
लगाना  मत  कभी  तुम  यहां आस
मिले  धोखे यहां करना न तुम प्यार

रेखा जोशी