Monday, 26 October 2015

बन कर अर्धांगिनी प्रियतम हमने

पलकों में अपने स्वप्न सजाये
पथ  में तेरे  सदा नयन बिछाये 
बन कर अर्धांगिनी प्रियतम हमने
है तुम संग सातो वचन निभाये

रेखा जोशी