Monday, 26 October 2015

लावणी छंद

लावणी छंद

उपवन खिलते फूल फूल जब  रंगीन छटा मन भाये
शीतल समीर दे हिचकोले   मन मोरे  सजन समाये
आये  अँगना  मोरे  सजना    हर्षाया  हमारा  जिया
है   नैनो   में   सपने   तेरे   साँवरिया  सलोने   पिया

रेखा जोशी