Monday, 26 October 2015

है दो दिन की यह ज़िंदगी

न कर तू अभिमान ऐ बन्दे
प्रेम  जीवन  जान ऐ  बन्दे
है दो दिन की   यह ज़िंदगी
बात  यह तू  मान ऐ बन्दे

रेखा जोशी