Friday, 2 October 2015

चाहतों में मेरी मुस्कुराने लगा चाँद


मेरे दिल की उमंगों में छाने लगा चाँद
चाहतों में  मेरी  मुस्कुराने  लगा चाँद
......................................... ……
सुहानी चांदनी में नाचता है तन मन 
किरणों से अपनी हमे भिगोने लगा चाँद 
.......................................... ………
उड़ने लगी चाहतें संग  लिये कई रंग
स्वप्निल नैनो में अब झाँकने लगा चाँद 
............................................... …
 खिल गई यह वादियाँ सुन के आहट उनकी
सांसों    में   मेरी  अब  महकने  लगा  चाँद 
................................................
शीतल रश्मियों से जगमगाया है अँगना 
झांकता खिड़की  से शर्माने   लगा चाँद 

रेखा जोशी