Thursday, 29 October 2015

साथ तेरे सजन अब चले ज़िंदगी

मिल  गये  गर  हमें तुम मिले ज़िंदगी 
जो   बहारें    मिले   तो  खिले  ज़िंदगी 
ज़िंदगी कुछ नहीं गर न हम तुम मिले 
साथ   तेरे   सजन  फिर  चले  ज़िंदगी 

रेखा जोशी