Monday, 20 October 2014

क्षणिका [लिखे थे हमने भी खत तुम्हे]


है याद
लिखे थे हमने भी
खत तुम्हे
महकते हुए
खतों में
थी बयाँ दास्तान
हमारे प्यार की
देखते ही उन्हें
है याद आ  जाते
बीते हुए
वोह मधुर क्षण
जो फिर से
महका जाते
है हमारी
ज़िंदगी

रेखा जोशी