Tuesday, 28 October 2014

जब धोखा और फरेब हो उसकी फितरत में

अब  दिल  में  हमारे  कोई अरमान  नही है
प्यार मुहब्बत निभाना भी आसान  नही है
जब धोखा और फरेब हो उसकी फितरत में
ऐसे   दगाबाज  का  कोई  सम्मान  नही  है

रेखा जोशी