Thursday, 16 October 2014

गुनगुनाने लगी है बहारें


पल पल हम तुम्हे  है निहारें
संग  संग   तुम  लाये  बहारें
..........................................
चूमे   मेरा   चाँदनी   आँचल 
सुहानी पवन बह रही शीतल
मन में मचलती हलचल मेरे
दिल   दीवाना  तुम्हे   पुकारे
..........................................
तुम जो मिले हमसे पल दो पल
महकने लगे गुलाब खिल खिल
अँगना   महकाती    है    हवायें
गुनगुनाने    लगी     है    बहारें
..........................................
पल पल हम तुमको है निहारें
आये जो  तुम संग आई बहारें

रेखा जोशी