Thursday, 30 October 2014

तांका

तांका

ठंडी हवायें
कांपे तन  बदन
धूप सुहाये
है भाये गर्म चाय
मोज़े  पाँव गर्माये

रेखा जोशी