Wednesday, 15 April 2015

कदम सफर में अपने निशान रख देगा


दिये यहाँ  जब धोखे जहान ने साजन 
मिले हमे तुम जो  दास्तान रख देगा 
… 
चले गये तुम जो  छोड़ कर हमे  तन्हा 
तिरे कदम पे अपनी युँ  जान रख देगा

बहुत हसीन सफर ज़िंदगी यहाँ गुज़रा
कदम सफर में अपने निशान रख देगा 

मिले नही तुम  रोये बहुत यहाँ हम तो 
युँ  प्यार में अब अपना उफान रख देगा 
… 
किसे कहें हम यह दास्तान अब दिल की 
क़लम वरक़ पे नई दास्तान रख देगा

रेखा जोशी