Sunday, 19 April 2015

जाने किस कसूर की सजा पा रहे है हम

काश  मेरे  जीवन में न  आये  होते तुम
जाने किस कसूर की सजा पा रहे है  हम
हमने  तुम्हे  सदा  जी जान से  है  चाहा
आखिर क्यों हमारा इम्तिहान ले रहे तुम

रेखा जोशी