Thursday, 30 April 2015

है गर्मी आई [सदोका]

है गर्मी आई
रसीले तरबूज
खरबूजे अमृत
सूर्य नभ पे
लथपत पसीना
अंगार बरसता

रेखा जोशी