Monday, 27 April 2015

अलिवर्णपाद छंद

अधूरे सपने
है पूरे सपने
सतरंगी जहाँ
दिखाये सपने
भाग रहे सब
सपनों के पीछे

रेखा जोशी