Saturday, 4 April 2015

फूल खिलते उपवन में महक उठा संसार

सुमन पर  भँवरा डोले   है  चहुँ  ओर   बहार
छटा   रंगीन   बिखेरे   चलती  मस्त  बयार
कुहुकती   कोयलिया  पँछी  चहके डाल डाल
फूल  खिलते  उपवन में   महक  उठा संसार

रेखा जोशी