Monday, 25 May 2015

अलिवर्णपाद छंद



कहते रहते 
तुम हो नादान 
आ जाती सबकी 
बातों में हमेशा 
ख़त्म कर दिया 
मनोबल मेरा 

रेखा जोशी