Sunday, 17 May 2015

रखे ध्यान न बहायें व्यर्थ जल हम

बुझती नही प्यास तपती गर्मी में
है व्याकुल सभी पशु पँछी गर्मी में
रखे ध्यान न बहायें व्यर्थ जल हम
नीर से ही  प्यास बुझती गर्मी में
रेखा जोशी