Thursday, 14 May 2015

नहीं आकाश छूना मुझे

नहीं आकाश छूना मुझे
है धरती पर रहना मुझे
महका कर अवनी यहाँ पर
है रँग इसमें भरना  मुझे

रेखा जोशी