Wednesday, 6 May 2015

माँ की पूजा जो करता वह है मुझे प्रिये

हाथ जोड़  झुकाये मस्तक
उर में भाव हृदय में वंदन
पूछा भक्त ने भगवन से
पूजा करूँ निस दिन तिहारी
कब दोगे  दरस अपने
कब  मिलोगे हे प्रभु
शीश झुकाये करूँ नित वंदन
हे करुणानिधान
अंतरघट  तक प्यासे  नैना
दरस तेरा पाने को
अलौकिक चमत्कार
हुआ इक फिर
आकाशवाणी से गूंजे
प्रभु के स्वर मधुर
मै तो रहता साथ तेरे
हर घड़ी हर पल
देख माँ के नैनों में
ममता दिखेगी मेरी
पूरी करती  इच्छायें  तेरी
लूटा कर
अपना सब कुछ तुम पर
तेरे लिए प्रार्थना  करती
जीती वह तेरे लिये
खुद को स्वाहा कर के
तेरे लिये मरती
माँ ही भगवान माँ ही ईश्वर
दिल न कभी दुखाना उसका
माँ की पूजा जो करता
वह है मुझे प्रिये
वह है मुझे प्रिये

रेखा जोशी