Wednesday, 13 May 2015

क्यों जाना पड़ा मुझे छोड़ तेरा अँगना

सुर्ख लाल जोड़ा
मेहंदी रचे हाथ
नैनों में आँसू भर
देख रही  मुड़ मुड़ कर
बाबुल का द्वार
छूट रहा माँ का अंगना
आगे  साँवरिया
बिलख रही पीछे
माँ की ममता
रहा देख बाबुल
सजल नैनों से
दे रहा दुआएँ
दूर खड़ा कोने में
बसाने दुनिया नई
डोली में बैठ चली
छोड़ बाबुल का अँगना
बता मोरे बाबुल
क्यों हुई मै  पराई
क्यों जाना पड़ा मुझे
छोड़ तेरा अँगना
क्यों बनाई रब ने
बेटियाँ पराई

रेखा जोशी