Tuesday, 5 May 2015

भर दें उजाला हम अब जहान में खुशियाँ लुटाकर

चलो दिल को जलाकर आज फिर से रोशनी कर दें
अँधेरे पथ पे हम आज फिर से चांदनी भर दे
भर दें उजाला हम अब जहान में खुशियाँ लुटाकर
सूनी आँखों में हम आज फिर से ज़िंदगी भर दें
रेखा जोशी