Sunday, 31 May 2015

वर्ण पिरामिड

मै 
उड़ी 
नभ में 
पँछी  बन 
नीला गगन 
उन्मुक्त उड़ान 
छू लिया  आसमान 

रेखा जोशी