Friday, 22 May 2015

अब शमा बुझने लगी परवाने' के जाने के बाद


छुप गया कोई कहीं फिर पास अब आने के बाद
याद आई फिर हमें तेरे कहीं जाने के बाद
....
दूर हमसे तुम चले जाना मगर आना न याद
रात  भर रोते  रहे गे  फिर सजन हम जाने के बाद

जान तुम तो हो हमारी क्या कहें तुमसे सजन युँ
टूट जायेगा हमारा फिर सजन दिल जाने के बाद 

छोड़ कर साजन हमे अब तुम चले जाओ अगर युँ
जान दे देंगे सनम फिर हम यहाँ अब तेरे जाने के बाद
....
खत्म होगा प्यार में इस बेबसी में तड़पना युँ
अब शमा बुझने लगी परवाने' के जाने के बाद

रेखा जोशी