Thursday, 27 November 2014

तुमने कभी हमारे इस प्यार की न कद्र की


तुम गर हमे न समझो तो हम किसे  पुकारे 
समझा न  दर्द हमसे फिर कर लिये  किनारे 
तुमने  कभी हमारे इस प्यार की न  कद्र की
कब  तक  सहे   अकेले   दे  दो  हमें   सहारे 
रेखा जोशी