Thursday, 20 November 2014

हूँ खुशनसीब बहुत मैने तुमसा पाया मीत

झंकृत हुआ मन होंठो  ने गुनगुनाया गीत
है  दूर   देश  से आज  मेरा आया मनमीत
जीवन में  पाई खुशियाँ  मिला तेरा सहारा
हूँ खुशनसीब बहुत मैने तुमसा पाया  मीत

रेखा जोशी