Saturday, 8 November 2014

प्यारा सा सुंदर सपना

भर कर
प्यार का रंग 
मिल कर 
सजाया हम दोनों ने 
इक सुन्दर सपना 
छोटे से घर का 
लेकिन 
थम गया वक्त वही 
खो गये 
जब तुम कहीं 
जाने के बाद तुम्हारे 
खड़े हम वहीँ 
जला कर नैनो में
आस के दीये 
राह तकते तेरा 
हर रोज़ 
सजा कर राहें 
तुम्हारी फूलों से 
है विश्वास 
आओगे तुम 
और 
होगा पूरा अपना 
वही प्यारा  सा 
सुंदर सपना 

रेखा जोशी