Friday, 28 November 2014

भीगे नयन मेरे देख तेरे आँसू


मोतियों  से  बहते देख तेरे आँसू 
दर्द उठता दिल में  देख तेरे आँसू
है रुलाया तुम्हे ज़ालिम ज़माने ने
भीगे   नयन मेरे  देख  तेरे  आँसू 

रेखा जोशी