Tuesday, 11 November 2014

पनप रहा भ्रष्टाचार यहाँ देख इसे अब क्या करें


लुटे  इज़्ज़त बालाओं की देख इसे हम क्या करें 
जनता  बहुत परेशान रहे देख इसे तब क्या करें 
भूख गरीब  बेरोज़गार  की कमी  नही यहाँ  पर 
पनप रहा भ्रष्टाचार यहाँ देख इसे अब क्या करें 

रेखा जोशी