Wednesday, 19 November 2014

एक कदम स्वच्छता की ओर

 एक कदम स्वच्छता की ओर 

दो अक्तूबर 2014 राष्ट्रपिता महात्मा ग़ांधी जी का जन्म दिवस को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने ऐतिहासिक दिवस बना दिया ,एक सार्वजनिक कार्यक्रम में सफाई को लेकर भारत के देशवासियों को उन्होंने शपथ दिलाई , ‘मैं स्वच्छता को लेकर प्रतिबद्ध रहूंगा और इसको समय दूंगा… मैं कभी गंदगी नहीं फैलाऊंगा और न ही किसी को ऐसा करने दूंगा।’’ सरकार ने अपने सभी कर्मचारियों और अधिकारियों से इसी के अनुरूप शपथ लेने को कहा गया था | नरेंद्र मोदी सरकार की योजना महात्मा गांधी के 150वें जन्म दिवस दो अक्तूबर 2019 तक देश को पूरी तरह स्वच्छ बनाने की है। दो अक्तूबर को दिलाई गई शपथ के प्रारूप में लिखा गया है कि महात्मा गांधी ने एक ऐसे भारत का सपना देखा था जो न केवल आजाद हो बल्कि स्वच्छ और विकसित भी हो।उन्होंने कहा ,”महात्मा गांधी जी ने भारत माता को आजाद करवाया और अब यह हमारी जिम्मेदारी है कि देश को स्वच्छ बनाकर हम भारत माता की सेवा करें और हम भारतवासियों की तरफ से ”स्वच्छ भारत ” को महात्मा गांधी जी की 150 वी वर्षगांठ पर उन्हें उपहार स्वरूप दे |
ऐसी बात नही है की हम भारतवासियों को स्वच्छता का महत्व पहले पता नही था ,हम जानते है की हमारी दादी परदादी रसोईघर में ,जहां भोजन सदैव हाथ धो कर बहुत ही सफाई एवं स्वच्छता से बनाया जाता था, वहां जूते ,चप्पलें न तो वह स्वयं पहनती थी ओर न ही किसी को भी जूतो सहित रसोई घर में जाने की इजाज़त देती थी ,ताकि जहां भोजन बनता है वहां जूतो के साथ कीटाणु न जाने पाये , हमारे रहनसहन में भी स्वच्छता की ओर बहुत ध्यान दिया जाता था ,यहां तक कि हमारी पूजा अर्चना में भी स्वच्छता का पूरा पूरा ध्यान रखा जाता था .हमारे पूर्वज जानते थे कि जहां स्वच्छता होती है उस स्थान से बीमारी कोसों दूर रहती है ओर जहां बीमारी नही होती वहां सदा लक्ष्मी का वास होता है | हमारे देश में अधिकतर लोग गावों में रहते है ओर शौच के लिए वह खेतों में ,खुले में जाया करने के आदी है ,लेकिन समय के चलते शहरीकरण हो रहा है गावों के लोग शहरों में आ कर बस रहे है ओर स्वच्छ शौचालयों के महत्व को समझ रहे है ,स्वच्छता अभियान में जुड़े इस तथ्य को नकारा नही जा सकता और यह हम सबका कर्तव्य है कि स्वच्छ शौचालयों के बारे में देशवासियों को जागरूक करें |
इसने कोई दो राय नही है कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कि के मन की बात आज जन जन के मन की बात बन चुकी है ,स्वच्छता अभियान में आज नेता ,अभिनेता , अभिनेत्रियां अफसर ,,क्या शहर क्या गाँव ,बच्चे ,युवा युवतियां बुज़ुर्ग ,कालेज स्कूल के विद्धार्थी सभी को स्वच्छता का अर्थ समझ में आ गया है ओर इस अभियान में देश के कोने कोने से लोग जुड़ रहे है | हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी कि सोच स्पष्ट है कि अगर देश का हर व्यक्ति स्वच्छता के बारे में जागरूक है तो इसमें कोई शक नहीं कि एक दिन हमारा भारत स्वच्छता के नए आयाम छू लेगा और हम भारतवासी बापू जी के 150 वें जन्मदिवस पर स्वच्छ भारत उन्हें उपहार में दे पाएंगे |

रेखा जोशी