Monday, 24 November 2014

हाइकु

है लहराती 
दामन पहाड़ का 
बहती चली 
…………… 
चमचमाती 
पहाड़ से लिपटी 
नदी बहती 
…………. 
आकाश पर
चाँद और सूरज
रहे विचर
…………
है आते जाते
खेलें आँख मिचोली
सूरज चाँद

रेखा जोशी